Home-Blog - Contact

egujaratitimes.com

Google Pay से सावधान हो जाइए: RBI
13:08 25/06/2020
अगर आप डिजिटल पेमेंट के लिए गूगल पे (Google Pay) का इस्तेमाल करते हैं, तो सावधान हो जाइए. भुगतान के लिए गूगल के इस एप के इस्तेमाल के दौरान किसी प्रकार की गड़बड़ी या फिर किसी धोखाधड़ी का शिकार होते हैं, तो उसकी जिम्मेदारी भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) नहीं लेगा. देश के केंद्रीय बैंक ने बीते दिनों दिल्ली हाईकोर्ट में दायर एक याचिका की सुनवाई के दौरान यह साफ कर दिया है कि गूगल पे किसी प्रकार की भुगतान प्रणाली का संचालन नहीं करता, बल्कि वह थर्ड पार्टी एप प्रोवाइडर (TPAP) है. उधर, गूगल पे ने एक बयान जारी कर कहा है कि आरबीआई और भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) की गाइडलाइन के तहत निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार उसके मंच के जरिये किये जाने वाले लेनदेन पूरी तरह सुरक्षित हैं.

...

31 जुलाई तक टैक्स सेविंग्स स्कीम में
13:07 25/06/2020
केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान टैक्स छूट पाने के लिए विभिन्न योजनाओं में निवेश के लिए समय भी एक महीने बढ़ाकर 31 जुलाई 2020 कर दिया है.

टैक्स डिडक्शन के लिए निवेशों में म्यूचुअल फंड ELSS, पीपीएफ (PPF), एनएससी (NSC), एलआईसी प्रीमियम (LIC Premium), एसएसवाई (SSY), एनपीएस सब्सक्रिप्शन (NPS Subscription), स्वास्थ्य बीमा भुगतान (Health Insurance Payment) और अन्य शामिल हैं.

आईटी अधिनियम के Chapter-VIA-B के तहत कटौती का दावा करने के लिए विभिन्न निवेश / भुगतान करने की तारीख जिसमें धारा 80C (LIC, PPF, NSC आदि), 80D (मेडिक्लेम), 80G (Donation) आदि को भी आगे बढ़ाकर 31 जुलाई, 2020 कर दिया गया है.

...

आयकर रिफंड के लिए
13:06 25/06/2020
सरकार ने वित्त वर्ष 2019-20 के आयकर रिटर्न दाखिल करने की समयसीमा बढ़ा दी है. आपको बता दें कि पहले आयकर रिटर्न दाखिल करने की समयसीमा 31 जुलाई 2020 थी, जो अब बढ़कर 30 नवंबर 2020 हो गई है. ऐसे में आशंका है कि उसे रिफंड के लिए साल के अंत तक का इंतजार करना पड़ सकता है. सवाल है कि क्या सच में रिफंड मिलने में देरी होगी.

इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने एक बयान जारी कर टैक्‍सपेयर्स को कहा था कि बैंक खाते को प्री-वैलिडेट (पहले से सत्यापित) करा लें. इससे रिफंड मिलने में देरी नहीं होगी. इसके मुताबिक अगर आपका कोई रिफंड बनता है तो वह आपको इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट के सेंट्रलाइज्‍ड प्रोसेसिंग सेंटर (CPC) के जरिए मिल जाएगा. हालांकि, इसके लिए जरूरी है कि आपका बैंक अकाउंट प्री-वैलिडेट हो. आप ऑनलाइन भी बैंक अकाउंट को प्री-वैलिडेट करा सकते हैं.