Welcome to egujaratitimes.com!

अब बनेगी रंगीन गेहूं की रोटीयां (હવે રંગીન રોટલી/ભાખરી બની શકશે)
16:59 03/06/2019
देश में अब गेहूं केवल भूरे रंग की नहीं होगी। पंजाब के मोहाली में मौजूद नैशनल एग्री-फूड बायॉटेक्नॉलॉजी इंस्टीट्यूट (NABI) के वैज्ञानिकों ने 8 साल की रिसर्च के बाद गेहूं की तीन रंग- पर्पल, ब्लैक और ब्लू- की किस्में तैयार की हैं। इन्हें फूड सेफ्टी ऐंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (FSSAI) ने मानवीय उपभोग के लिए अपनी स्वीकृति दे दी है।

NABI के वैज्ञानिकों का दावा है कि एंटीऑक्सिडेंट की प्रचुर मात्रा वाले गेहूं से ह्रदय रोगों, डायबिटीज और मोटापे की आशंका कम हो जाती है। रंगीन गेहूं से बच्चों में कुपोषण की समस्या से भी निपटा जा सकता है। रंगीन गेहूं में कारोबार करने के लिए अभी तक 10 एग्री कंपनियों ने दिलचस्पी दिखाई है। हालांकि, रंगीन गेहूं से बने प्रॉडक्ट्स के मार्केट को लेकर अभी तक स्थिति स्पष्ट नहीं है।

इससे ह्रदय रोगों और मोटापे जैसी जीवनशैली से जुड़ी बीमारियों को रोकने में मदद मिलती है। हमने चूहे पर इसका प्रयोग किया है और यह पाया गया है कि रंगीन गेहूं खाने वालों का वजन बढ़ने की संभावना कम होती है।' NABI में रंगीन गेहूं प्रॉजेक्ट की लीड साइंटिस्ट मोनिका गर्ग ने बताया, 'हमने जापान से जानकारी मिलने के बाद 2011 से इस पर कार्य शुरू किया था। हमने कई सीजन तक प्रयोग करने के बाद इसमें सफलता पाई है।'

=====
Click for more news:
Page-1, Page-2, Page-3, Page-4, Page-5,
Page-6, Page-7, Page-8, Page-9, Page-10,

 

ALPAVIRAM

ALPAVIRAM

FREE PRESS Gujarat

LOKMITRA

LOKMITRA

Contact us on