Welcome to egujaratitimes.com!

मित्राह एनर्जी ने हासिल की एक गीगावाट की उपलब्धि

अक्षय उर्जा के क्षेत्र में देश के सबसे बडे स्वतंत्र ऊर्जा उत्पादक मित्राह एनर्जी ने आंध्र प्रदेश में अपनी अस्पारी परियोजना में अतिरिक्त क्षमत्ता जोड़ने की घोषणा की जिससे इसकी कुल पवन ऊर्जा क्षमत्ता 1000 मेटावॉट यानी 1 गीगावाट के स्तर तक पहुंच गए।
मित्राह की उपलब्धि के बारे में रवि कैलाश, चेयरमेन ने कहा, सिर्फ छह वर्षो में मित्राह असाधारण दूरी तय की हैं और एक गीगावॉट पवन ऊर्जा क्षमत्ता की महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की हैं। बगैर थके काम करते हुए, तैयारी, योजना और मित्राह के साथ जुड़े प्रत्येक व्यक्ति के काम करने के बाद यह उपलब्धि हासिल करना मेरे लिए गर्व की बात हैं। मैं एक बार फिर अपने कर्मचारियों शेयरधारकों, विक्रेताओ, निवेशकों और बैंकरों को यह उपलब्धि हासिल करने के लिहाज से सलागातार मदद देने के लिए धन्यवाद देता हूं।
इस उपलब्धि के पीछे प्रमुख कारणों का उल्लेख करते हुए विक्रम कैलाश, प्रबंध निदेशक एवं सीईओ, मित्राह एनर्जी ने कहा तीन प्रमुख चीजों ने हमारी योजनाओं को वास्तविकता में बदलने में मदद की हैं। पहला हमने अपनी योजनाओं का कडाई से पालन किया हैं। चाहे परियोजना का निर्माणधीन चरण रहा हो या फिर धन जुटाने का दौर, हमने हर एक चीज पर जमकर पसीना बहाया हैं। दूसरे हमने खुलकर नवोन्मेष की संस्कृति का समर्थन किया हैं। हमारी कई मौजूदा प्रक्रियाएं फर्म के भीतर गैरेज प्रयोग की शुरूआत की हैं। तीसरे हम कारोबार और अपने संसाधनों को निवेश करने में लंबी दूरी का दृष्टिकोण रखते हैं। इनमें से कुछ दांव बहुत ही अजीब लग रहे थे लेकिन लंबी अवधि में सही साबित हुए हैं। उदाहरण के लिए हमारी उद्योग में अग्रणी पवन ऊर्जा क्षेत्र क्षमत्ता इसी दृष्टिकोण का परिणाम हैं।

Gujarat's First Hindi Daily ALPAVIRAM's
Epaper

             
   

1

2

3

4

5

6

7

8

9

10

11

12

13

14

15

16

17

18

19

20

21

22

23

24

25

26

27

28

29

30

31

Gujarat's Popular English Daily
FREE PRESS Gujarat's
Epaper

             
   

1

2

3

4

5

6

7

8

9

10

11

12

13

14

15

16

17

18

19

20

21

22

23

24

25

26

27

28

29

30

31

Gujarat's widely circulated Gujarati Daily LOKMITRA's
Epaper

             
   

1

2

3

4

5

6

7

8

9

10

11

12

13

14

15

16

17

18

19

20

21

22

23

24

25

26

27

28

29

30

31

         

 

Contact us on

Archives
01, 02